मैं ऐसे समाज का हिस्सा हूं जहां लोग रेप का समर्थन करते हैं -विराट कोहली

0
50

नई दिल्ली:भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने जम्मू कश्मीर के कठुआ में 8 साल की मासूम आसिफ़ा के साथ हुई दरिन्दगी और हैवानियत पर बात करते हुए काफी भावुक नज़र आये।

क्योंकि ब्लातकार के महीनों बाद जब पुलिस ने चार्जशीट तैयार करी और भयानक खुलासा करते हुए बताया कि इस मासूम के साथ 6 लोगों ने कई दिनों तक नशीली दवाईयाँ खिलाकर रेप किया जा तो चार्जशीट को कोर्ट में पेश न होने देने के लिये वकीलों ने सड़कों पर उतरकर हँगामा मचाया है और बलात्कारियों को बचाने की भरपूर कोशिश करी है

विराट कोहली ने वीडियो में कहा है कि “मेरा सिर्फ एक ही सवाल है,आगर आपके परिवार के साथ ऐसा होता तो क्या आप खड़े रहकर तमाशा देखते या मदद करते ? मेरा सिर्फ यही सवाल है । उन्होंने कहा मुझे शर्म आती है कि मैं ऐसे समाज का हिस्सा हूँ । जहा लोग रेप का समर्थन करते हैं”

कठुआ में आठ साल की एक बच्ची से मंदिर में गैंगरेप किया गया था। गैंगरेप के बाद बच्ची की निर्मम हत्या कर दी गई थी। पीड़ित बच्ची बकरवाल (मुस्लिम) समुदाय से थी। हिंदूओं में आम धारणा बन गई थी कि इस समुदाय के लोग गायों का मांस खाते हैं।
इस घटना के जरिए रसाना गांव से इस समुदाय के लोगों को विस्थापित करने की बड़ी साजिश रची गई थी। इसी साजिश के तहत मासूम बच्ची का पहले अपहरण किया गया फिर उसे एक मंदिर में बंधक बना कर रखा गया और फिर इसी मंदिर में उससे करीब एक हफ्ते तक हैवानियत की गई।

गंभीर बात यह भी है कि राजस्‍व विभाग के पूर्व अधिकारी सांझी राम को सामूहिक दुष्‍कर्म और हत्‍या का मास्टर माइंड बताया जा रहा है। बता दें कि आठ साल की बच्‍ची के साथ गैंगरेप करने से पहले उसे नशीली दवा खिला दी गई थी। इसके कारण वह अपना बचाव भी नहीं कर सकी थी। पुलिस ने इस मामले में एक नाबालिग समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

इस मामले की जांच के बाद यह भी सामने आया है कि मास्टरमाइंड ने बकरवाल समुदाय के मुसलमानों को बाहर खदेड़ भगाने के लिए अपने ही भतीजे और अन्य 6 लोगों को उकसाया था। बता दें कि जम्मू-कश्मीर में बकरवाल समुदाय मुख्य रूप से चरवाहे का काम करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here